नकारात्मक सोच क्या है ? [ लक्षण, उदाहरण सहित ]

” एक नकारात्मक विचार का मस्तिष्क कभी सकारात्मक जीवन नहीं दे सकता । ” इस सत्य को ध्यान में रखते हुए आज आप जानेंगे कि वास्तव में नकारात्मक सोच क्या है ? मन में नकारात्मक विचार क्यों आते हैं ? और सकारात्मक सोच के लक्षण को जानने के बाद आप नकारात्मक वाक्य की लिस्ट पर गौर करेंगे जिन्हें जाने-अनजाने में आप रोजाना अपने जीवन में प्रयोग करते हैं जिनका असर आपके रोजाना जीवन पर पड़ता है और इसके कारण आपके दिमाग में बार-बार एक ही विचार आने लगते हैं ।

और फिर बिल्कुल अंत में नकारात्मक सोच से जुड़ी हर समस्या को समझने के बाद नकारात्मक सोच को दूर करने के तरीकों को जानेंगे । 

जिससे आप नकारात्मक सोच को सकारात्मक सोच में बदलकर अपने जीवन को फिर से सकारात्मक ऊर्जा से भरने में सफल रहेंगे ।

तो चलिए शुरू करते है शुरूवात से…

 नकारात्मक सोच क्या है ? [ What is Negative Thinking ]

नकारात्मक सोच क्या है और सभी जानकारी

नकारात्मक सोच एक विचार प्रक्रिया है जिसमें लोग हर प्रकार की स्थिति में कुछ-ना-कुछ बुरा खोजने की कोशिश करते हैं या हर संभव स्थिति को असंभव बताते हुए समय के साथ तनाव, चिंता या उदासी जैसी समस्याएं उत्पन्न कर लेते हैं जो व्यक्ति के सकारात्मक सोच के विपरीत नकारात्मक सोच ( Negative Thinking ) को प्रकट करता है ।

National Science Foundation के अनुसार, एक सामान्य व्यक्ति के मन में रोजाना 12000 से 60000 विचार आते हैं जिनमें से 80% विचार नकारात्मक होते हैं और 95% विचार बार-बार आने वाले विचार होते हैं ।

मन में नकारात्मक विचार क्यों आते हैं ?

मन में नकारात्मक विचार क्यों आते हैं ?
मन में नकारात्मक विचार क्यों आते हैं ?

सामान्य तौर पर थकान, कार्य में तनाव, चिंता, उदासी और अधूरी नींद व्यक्ति के मन में नकारात्मक विचार उत्पन्न करने का मुख्य कारण होता है। और ऐसा भी पाया गया है नकारात्मक सोच, स्वयं व्यक्ति मे डिप्रेशन उत्पन्न करता है ।

नकारात्मक विचार के लोगो के लक्षण

नकारात्मक विचार के लोगो के लक्षण
नकारात्मक विचार के लोगो के लक्षण

 आप किस तरीके से सोचते हैं यह जानने के लिए आपको नकारात्मक व सकारात्मक विचारों के लक्षण  को जानना होगा । जिससे आप अपनी वर्तमान सोचने के तरीकों को जानकर उसे सकारात्मक सोच में बदल सकें ।

  • किसी व्यक्ति, वस्तु की तुलना करना 
  • हमेशा अच्छाई में बुराई खोजने की कोशिश करना 
  • छोटी-छोटी बातों पर झगड़ा करना या नाराज हो जाना 
  • पूरे दिन उदासी महसूस होना 
  • लोगों के प्रति हीन भावना का होना 
  • स्त्रियों को गलत भाव से देखना 
  • कार्य पर फोकस ना कर पाना 
  • याददाश्त का कमजोर होना 
  • अकेलापन महसूस करना 
  • हमेशा शिकायत करने की आदत

नकारात्मक सोच के उदाहरण ? [ Example Of Negative Thinking ]

नकारात्मक सोच के उदाहरण ? [ Example Of Negative Thinking ]
नकारात्मक सोच के उदाहरण ? [ Example Of Negative Thinking ]

उदाहरण: 1  

 एक बहुत पुरानी कहावत है ” गिलास आधा भरा है या गिलास आधा खाली है “ इस वाक्य में कहीं बात को सकारात्मक सोच के व्यक्ति के लिए, गिलास आधा भरा है लेकिन इसके विपरीत नकारात्मक सोच के व्यक्ति के लिए वही गिलास आधी खाली है ।

उदाहरण: 2 

किसी कॉलोनी में किसी कारण दो ग्रुप के सदस्यों में झगड़ा हो गया । 

झगड़ा बढ़ते-बढ़ते ज्यादा बढ़ गया । झगड़ा इस हद तक बढ़ गया कि दोनों ग्रुप के लीडर कि भी एक-दूसरे से बहश हो गई ।

बहस के दौरान पहला लीडर लड़ाई पर आ गया जबकि दूसरे लीडर ने अपनी सूझबूझ का प्रयोग करते हुए तुरंत पुलिस को बुला दिया जिससे जल्दी झगड़ा खत्म हो गया ।

इस उदाहरण में पहला ग्रुप का लीडर नकारात्मक सोच का व्यक्ति है जबकि दूसरा लीडर ने अपनी सूझबूझ का प्रयोग किया और सोचा अगर आज हमने लड़ाई को अंजाम दिया तो यह लड़ाई का सिलसिला कभी खत्म नहीं होगा और अंत में 

हम दोनों ग्रुप को पुलिस या कोर्ट के पास ही जाना होगा इसलिए लड़ाई से पहले ही हमें पुलिस रिपोर्ट के पास जाना सही होगा ।

जो सकारात्मक सोच का सही उदाहरण है ।

अक्सर प्रयोग किए जाने वाले नकारात्मक वाक्य की लिस्ट !

हमारे जीवन नकारात्मक सुननी, देखने और बोलने से नकारात्मक होता है ।

इसमें सबसे ज्यादा प्रभाव रोजाना बोले जाने वाले नकारात्मक शब्दों और वाक्यों से पड़ता है यह वाक्य आमतौर पर रोजाना प्रयोग होते हैं परंतु अधिकांश तो हमें पता ही नहीं होता कि जो वाक्य हम बोलते हैं उनका नकारात्मक असर हमारी जिंदगी में पढ़ रहा होता है 

इसलिए आज आप नीचे दिए नकारात्मक वाक्यों की लिस्ट को ध्यान से पढ़ें और इन वाक्यों की मदद से नकारात्मक वाक्य को पहचाने जो आप रोजाना जिंदगी में प्रयोग करते हैं ।

  •  इसे करने के लिए मेरे पास समय नहीं है ।
  • मैं इसके लायक नहीं हूं ।
  • सपनों की दुनिया और असल दुनिया में बहुत बड़ा फर्क होता है ।
  • मेरे बस की बात नहीं ।
  • मुझे नहीं पता जिंदगी में क्या करना है?
  • मेरा भाग्य ही खराब है ।
  • मुझे नहीं लगता है ऐसा कभी होगा भी ।
  • मैं कुछ भी कर लूं मुझे फेल ही होना है ।
  • सब अमीर हो जाएंगे तो काम कौन करेगा ।
  • यह मेरे लिए नहीं बना ।
  • इसे करना नामुमकिन है ।

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •